Thursday, July 29, 2010

कनकबिहारी मंदिर में संतों की सभा

'विदेशी आक्रांताओं के नाम पर नहीं बनने देंगे मस्जिद'
जयपुर . श्रीहनुमत शक्ति जागरण समिति के तत्वावधान में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए हनुमत शक्ति जागरण अनुष्ठान के संदर्भ में गलता गेट स्थित कनकबिहारी मंदिर में बुधवार को संतों की सभा आयोजित की गई।
सभा में संतों की समिति के प्रमुख अग्रपीठाधीश्वर राघवाचार्य महाराज ने कहा कि विदेशी आक्रांताओं के नाम पर मस्जिद नहीं बनने दी जाएगी। राम जन्म भूमि पर मंदिर निर्माण के फैसले के इंतजार में साठ वर्ष बीत चुके हैं। अब वक्त आ गया है कि सोमनाथ की तर्ज पर संसद में कानून बनाकर श्रीराम जन्म भूमि को सम्मानपूर्वक हिंदू समाज को सौंप दे। उन्होंने कहा कि मस्जिद कहीं बनाओं, हमें कोई एतराज नहीं, मगर विदेशी आक्रांताओं के नाम पर मस्जिद हम बनने नहीं देंगे। रामजन्म भूमि भगवान का प्राकट्य स्थल है अयोध्या की सांस्कृतिक सीमा में किसी मस्जिद का निर्माण नहीं होने देंगे। देश में मंदिर निर्माण की अलख जगाने के लिए 16 अगस्त से हर गली-मोहल्ले में रामभक्त हनुमान का गुणगान किया जाएगा। यह मुद्दा राजनीति का हिस्सा न बने इसके लिए 16 अगस्त से 17 दिसंबर तक यह अभियान चलेगा। इसमें गांव-गांव, मोहल्ले व जिलास्तर पर मंदिरों में संतों की अगुवाई में धार्मिक अनुष्ठान किए जाएंगे।
समिति के मंत्री नरपत सिंह शेखावत ने बताया कि जयपुर में यह गोविंददेवजी मंदिर में निर्धारित किया गया है। उन्होंने सभी संतों को आह्वान किया कि 17 नवंबर से 17 दिसंबर तक प्रत्येक विकास खंड, ब्लॉक, तालुका व प्रखंड स्तर पर हनुमत शक्ति जागरण महायज्ञ किए जाएंगे। इसके साथ ही इन अनुष्ठानों में शामिल होने वाले भक्तजनों से हस्ताक्षर भी करवाए जाएंगे।
विहिप के राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री विनायक राव देशपांडे ने कहा कि शाहबानो प्रकरण में जब सरकार को मुस्लिम सरकार के दबाव में आकर कानून बनाना पड़ा था। तब सरकार हिंदुओं के मामलें में कानून क्यों नहीं बना सकती। इस मौके पर कनक बिहरीजी मंदिर के सियारामदास महाराज सहित अनेक संत महंतों ने सभा को संबोधित किया।

No comments:

Post a Comment