Tuesday, September 11, 2012

आर्थिक आधार पर आरक्षण को चुनावी आधार बनाने का निर्णय

अखिल भारतीय ब्राह्मण सम्मेलन सोमवार को संपन्न
जयपुर . सर्व ब्राह्मण महासभा की ओर से बिड़ला सभागार में आयोजित दो दिवसीय अखिल भारतीय ब्राह्मण सम्मेलन सोमवार को संपन्न हुआ। इस मौके पर आर्थिक आधार पर आरक्षण को चुनावी आधार बनाने का निर्णय किया गया।
ब्राह्मण संगठनों ने एकमत होकर कहा कि अब देशभर में आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग को लेकर अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए सभी प्रांतों की राजधानियों में एक वार हाइटेक रूम स्थापित कर गतिविधियों का संचालन होगा। महासभा प्रदेशाध्यक्ष पं. सुरेश मिश्रा ने कहा कि देशभर में 272 जातियां हैं, इनमें से 263 को आरक्षण दिया जा रहा है। फिर 9 जातियों को आरक्षण से वंचित क्यों किया जा रहा है? गहलोत सरकार ने 2003 में ब्राह्मणों को आरक्षण देने की घोषणा की थी, इसके बाद बिल भी पारित कर दिया गया। फिर अब तक क्रियान्विति क्यों नहीं हुई। आयोजन समिति अध्यक्ष आरएस जैमिनी व मुख्य समन्वयक योगेश दाधीच ने कहा कि अब चुनावों का आधार 'आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांगÓ रखा जाएगा।
ये प्रस्ताव भी पारित
सम्मेलन में आर्थिक आधार पर आरक्षण के अलावा, सर्व ब्राह्मण समाज में परस्पर वैवाहिक रिश्तों के लिए परिचय सम्मेलन, संपूर्ण भारत में ब्राह्मण यूथ सेंटर की स्थापना, कॉरपोरेट सेक्टर में आपसी सहयोग के लिए कॉरपोरेट मीट (नवंबर माह में), विवाह फिजूलखर्ची पर रोक, आर्थिक आधार पर कमजोर परिवारों के बच्चों को शिक्षा, ब्राह्मण रोजगार कार्यशालाओं का आयोजन, वल्र्ड ब्राह्मण इंस्टीट्यूट की स्थापना के माध्यम से कर्मकांड, ज्योतिष, वास्तु व माडर्न साइंस की जानकारी, बेटी बचाओ और ब्राह्मणों की बेटी ब्राह्मण का वोट ब्राह्मण को अभियान चलाया जाएगा।

No comments:

Post a Comment